किसानों पर आज भी आंसू गैस के गोले दागे गये हैं. जानें ताजा अपडेट

किसानों पर आज भी आंसू गैस के गोले दागे गये हैं. जानें ताजा अपडेट

‘दिल्ली चलो’ मार्च के तहत किसान राष्ट्रीय राजधानी की ओर कूच कर रहे हैं. इस बीच खबर है कि प्रदर्शनकारी किसानों को रोकने के लिए आंसू गैस के गोल पुलिस की ओर से दागे जा रहे हैं. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, शंभू बॉर्डर पर हरियाणा पुलिस की तरफ से 3 आंसू गैस के गोले छोड़े गए. किसानों के ‘दिल्ली चलो’ मार्च (Farmer Protest) फिर से शुरू करने की घोषणा के बाद से ही सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गये थे और इन्हें सीमा पर रोकने का प्रयास जारी है. इधर खबर है कि केंद्र सरकार ने किसानों को पांचवें दौर की बातचीत के लिए न्योता दिया है. अगली बातचीत के न्योता को लेकर अभी तक किसान नेताओं की ओर से कोई प्रतिक्रिया सामने नहीं आई है. आपको बता दें कि किसानों की ओर से 12 मांग रखी गई है जिसमें से कुछ पर सहमति नहीं बन सकी है.

किसानों के दिल्ली चलो मार्च पर किसान नेता सरवन सिंह पंढेर ने बुधवार को कहा कि हमने तय किया है कि कोई भी किसान, युवा आगे नहीं बढ़ेगा. बल्कि, जो किसान नेता है वह आंदोलन को लीड करेंगे. हम शांतिपूर्व तरीके से जाएंगे. आंदोलन खत्म हो जाएगा अगर केंद्र सरकार एमएसपी पर कानून बनाए. वहीं, केंद्रीय कृषि मंत्री अर्जुन मुंडा ने कहा है कि सरकार मामले पर समाधान चाहती है. इस मामले में बातचीत ही एकमात्र रास्ता है. बातचीत से समाधान जरूर निकलेगा.

किसान आंदोलन की वजह से यातायात बाधित

सुरक्षाकर्मियों को टीकरी, सिंघू और गाजीपुर सीमाओं पर कड़ी निगरानी करने का निर्देश दिया गया है. प्रदर्शनरत किसान सरकारी एजेंसियों द्वारा पांच साल तक दालें, मक्का और कपास न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर खरीदने के केंद्र के प्रस्ताव को खारिज कर चुके हैं. इसके बाद किसानों ने आगे की रणनीति के तहत दिल्ली कूच करने की बात कही. कानून- व्यवस्था बनाए रखने के लिए भारी सुरक्षा बल तैनात करने के बाद दिल्ली-गुरुग्राम, दिल्ली-बहादुरगढ़ और कई अन्य सड़कों पर यातायात बाधित नजर आ रहा है.

Kisan Andolan Live: किसानों के दिल्ली कूच के बीच सरकार का बड़ा फैसला, इधर शंभू बॉर्डर पर बिगड़े हालात

दिल्ली पुलिस ने कर रखी है खास तैयारी

दिल्ली पुलिस की ओर से जो जानकारी दी गई है उसके अनुसार, तीन सीमाओं पर तैनात सुरक्षाकर्मियों को चौकन्ना रखा गया है. उल्लेखनीय है कि प्रदर्शनरत किसानों और हरियाणा पुलिसकर्मियों के बीच 13 फरवरी को अंबाला के समीप पंजाब-हरियाणा सीमा पर झड़प देखने को मिली थी. दिल्ली और हरियाणा के दो सीमा बिंदू-टीकरी और सिंघू को भारी संख्या में पुलिसकर्मियों और अर्द्धसैन्य बलों की तैनाती की गई है. कंक्रीट के अवरोधक और लोहे की कीलें लगाकर सीमा को सील कर दिया गया है जिसे लेकर विपक्षी पार्टियां लगातार मोदी सरकार पर हमलावर हैं. सुरक्षा कर्मियों को एक भी प्रदर्शनकारी या वाहन को दिल्ली में प्रवेश न करने देने का निर्देश जारी किया गया है. दिल्ली पुलिस ने प्रदर्शनकारी किसानों को रोकने के लिए खास तैयारी कर रखी है. पुलिस ने पहले ही आंसू गैस के 30,000 गोले मंगवाए हैं.