राजस्थान पेपर लीक के आरोपियों पर लगेगा NSA! जब्त होगी संपत्ति

नई दिल्ली : राजस्थान में सीनियर टीचर भर्ती परीक्षा पेपर लीक मामले में राज्य सरकार ने शनिवार रात बड़ी कार्रवाई करते हुए शिक्षा विभाग के तीन कर्मचारियों को सस्पेंड कर दिया है. वहीं मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, राजस्थान पेपर लीक के आरोपियों पर एनएसए लग सकता है. राजस्थान पुलिस पेपर लीक के आरोपियों पर रासुका लगाने पर भी विचार कर रही है.

पेपर लीक मामले पर उदयपुर के एसपी विकास शर्मा ने बताया कि अभी तक 49 लोगों को हिरासत में लिया गया है और आगे कार्रवाई जारी है. उन्होंने कहा कि कार्रवाई में अन्य जिन लोगों का नाम आएगा उनसे भी पूछताछ की जाएगी. विकास शर्मा ने कहा कि हमें सूचना मिली थी कि एक बस में लोगों को लेकर जाया जाता है और उनसे उपयुक्त पेपर को सॉल्व कराया जाता है. इसके लिए एक टीम बनी थी जिसने मेहनत कर उनको गिरफ्तार किया है. उनके पास से जो पेपर बरामद हुए हैं, उससे इस पेपर लीक का मामला सामने आया है. बताते चलें कि शिक्षक भर्ती का पेपर लीक होने की बात सामने आने के बाद परीक्षा रद्द करनी पड़ी थी और अब पुलिस आरोपियों के खिलाफ सख्त एक्शन प्लान बना रही है. राजस्थान पेपर लीक मामले में आरोपियों की संपत्ति भी जब्त होगी.

पेपर लीक होने के बाद राजस्थान में सियासी बवाल शुरू हो गया है. विपक्ष के नेता इस लापरवाही के लिए प्रदेश सरकार को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं. साथ ही सरकारी तंत्र और कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए सरकार को घेर रहे हैं. राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी (RLP) के सुप्रीमो और नागौर से सांसद हनुमान बेनीवाल ने पेपर लीक मामले की सीबीआई (CBI) से जांच कराने की मांग की है. बेनीवाल ने राजस्थान सरकार पर निशाना साधते हुए पूछा कि आखिर कब तक युवा वर्ग के हितों पर कुठाराघात होता रहेगा? उन्होंने ट्विटर पर वीडियो शेयर कर राजस्थान सरकार से सीनियर टीचर भर्ती परीक्षा समेत रीट (REET) अन्य भर्ती परीक्षाओं के पेपर लीक मामले की सीबीआई जांच करवाने की मांग की है.

बीजेपी के राज्यसभा सांसद डॉक्टर किरोड़ी मीणा ने कहा कि राजस्थान के युवाओं की मेहनत पर डाका डालने वाले, अपने नजदीकी डकैतों को बचाने वाले प्रदेश के मुखिया आखिर कब तक दिखावे का कानून बनाकर ढोंग करते रहोगे? जब पारदर्शी परीक्षा करवा ही नहीं सकते तो दिखावे कि भर्ती निकालकर प्रदेश के बेरोजगारों के साथ क्यों छल कर रहे हो? उन्होंने सीएम गहलोत को संबोधित करते हुए कहा कि मैं पहले भी रीट, एसआई, जेईएन, कांस्टेबल पेपर मामले को लेकर आपसे सीबीआई जांच की मांग कर चुका हूं. लेकिन, आपने अनुशंसा नहीं की, क्योंकि आप बड़े मगरमच्छों को बचाना चाहते हैं. दुर्भाग्यपूर्ण है कि युवाओं के साथ छल हो रहा है और सरकार गहरी नींद में सो रही है. वहीं, बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सतीश पुनिया ने कहा कि प्रदेश की सरकार को कैसे समझाया जाए कि अब ये प्रदेश के सामान्य ज्ञान के परे की बात हो चुकी है. सरकार वीक, पर्चा लीक करने वाले इनके लोगों की अक्ल ठीक करनी चाहिए.

Sunil Kumar Dhangadamajhi

𝘌𝘥𝘪𝘵𝘰𝘳, 𝘠𝘢𝘥𝘶 𝘕𝘦𝘸𝘴 𝘕𝘢𝘵𝘪𝘰𝘯 ✉yadunewsnation@gmail.com

http://yadunewsnation.in
error: Content is protected !!