संयुक्त टीम पहुंचा देवमाता श्री हॉस्पिटल की जांच में

देवभोग: जिला स्तर से पहुंची स्वास्थ्य, राजस्व और पुलिस विभाग की संयुक्त टीम ने देवमाता श्री हॉस्पिटल में छापेमारी कार्रवाई करते हुए बिना टेक्निसियन के चल रहे एक्स -रे और पैथोलॉजी लैब को सील बंद कर दिया। जिला स्तर से आई स्वास्थ्य विभाग की टीम का नेतृत्व डॉक्टर हरीश चौहान कर रहे थे। उनकी टीम में शामिल डॉक्टर अमन हुमने, डॉक्टर बी बारा, बीएमओ डॉक्टर अंजू सोनवानी, नायब तहसीलदार अभिषेक अग्रवाल और पुलिस विभाग से प्रधान आरक्षक दिप्तनाथ प्रधान ने हॉस्पिटल में ओचक दबिश दिया। जाँच के बाद डॉक्टर हरीश चौहान ने चर्चा करते हुए बताया कि बिना टेक्निशियन के चल रहे एक्स -रे और पैथोलॉजी के लैब को बंद कर दिया गया है। हमने ज़ब पूछा कि बिना टेक्निसीयन के चलाये जा रहे एक्स -रे और पैथोलॉजी से आमजनों के जान से खिलवाड़ किया जा रहा है। क्या इसकी जानकारी विभाग को पहले नहीं थी तो डॉक्टर चौहान ने कहा कि विभाग को इसकी जानकारी नहीं थी। आज छापेमारी के दौरान ही जानकारी मिली। इसके बाद तुरंत सिलबंद करने की कार्रवाई की गई है। एसडीएम को सौंपे गए ज्ञापन में ब्लॉक अध्यक्ष ने कई बिंदुओं पर आरोप लगाया है। भूपेंद्र ने आरोप लगाया है कि अस्पताल का पंजीयन अवधि खत्म हो चुका है, इसके बाद भी नियम कायदों को ताक पर रखकर संचालन किया जा रहा है।

आरोप के मुताबिक अस्पताल में एक मात्र चिकित्सक (एमबीबीएस) डॉक्टर संजय चौधरी की नियुक्ति की गई है लेकिन सारा जाँच डॉक्टर बेनर्जी के द्वारा किया जाता है। आरोप में उन्होंने जिक्र किया है कि बगैर विशेषयज्ञ चिकित्सक के प्रसव, एपेनडिस्क, हर्निया, स्टूला, हाईड्रोसील, ट्यूमर एवं पाइल्स जैसे हाई रिस्क लेप्रोस्कोपिक सर्जरी किया जा रहा है। इतना ही नहीं बगैर एक्सपर्ट सर्जन के इसे करने की अनुमति दिया जा रहा है,इसकी जाँच की मांग भी ब्लॉक अध्यक्ष ने एसडीएम से किया है।
आरोप के मुताबिक पैथोलॉजी लैब के लिए डॉक्टर या पैथोलॉजीस्ट की आवश्यकता होती है, पर इस अस्पताल के कम पढ़े लिखे लोग इसे करके रिपोर्ट दे रहे है। आरोप के मुताबिक अस्पताल में भर्ती किये गए कर्मी भी बगैर किसी नर्सिंग कोर्स के है, कम क़ीमत पर स्टॉफ रखकर संचालक द्वारा मरीजों के जान से खिलवाड़ किया जा रहा है। आरोप के मुताबिक भूपेंद्र ने ज्ञापन में जिक्र किया है कि नियमानुसार तीन छोर से मेडिकल स्टोर खुला नहीं होना चाहिए पर ड्रग इस्पेक्टर द्वारा नियम ताक में रखकर देवमाता श्री अस्पताल में मेडिकल स्टोर संचालन की अनुमति दे दी गई है,इतना ही नहीं मरीजों को मजबूर भी किया जा रहा है कि दवाई भी इसी मेडिकल से ही खरीदा जाये। आरोप के मुताबिक आने वाले मरीजों को बेवजह जाँच व जबरन से ज्यादा दवाएं देकर गरीब मरीजों का आर्थिक शोषण किया जा रहा है। आरोप के मुताबिक डायरेक्टर दयाराम बंजारे जो कि ग्राम -तुलसी, ब्लॉक नवागढ़ का निवासी है। वह कैसे डॉक्टर दयाराम बेनर्जी बन गया। इसकी सही तरीके से जाँच करने की मांग भी ब्लॉक अध्यक्ष ने ज्ञापन में किया है।

छत्तीसगढ़ स्टेट हेड उमेश यादव की रिपोर्ट यदु न्यूज नेशन

Sunil Kumar Dhangadamajhi

𝘌𝘥𝘪𝘵𝘰𝘳, 𝘠𝘢𝘥𝘶 𝘕𝘦𝘸𝘴 𝘕𝘢𝘵𝘪𝘰𝘯 ✉yadunewsnation@gmail.com

http://yadunewsnation.in
error: Content is protected !!