कविता: कुछ नहीं हुआ

कुछ नहीं हुआ ?
न रंग लगा
न गीत बजा
न फागुनी कविता बनी ।

कुछ नहीं हुआ
न वंशी का स्वर सजा
न और तनिक ऊंचे दिखे
ठेले पेले हुए शब्द सारे
न आंचल में
ममता खिली
न चांदनी रात में
दिखे तारे
तारों के बीच
न दिखी चांदनी रात ।

अब नाम लेने से
कितने मुंह खुल जाते हैं
कुछ नहीं हुआ
न इधर उधर
उड़ते परिंदे
डाल पर बैठे
न लिखी जा सकी कविता !

✍🏾मूल ओड़िआ: प्रफुल्ल चंद्र पाढ़ी
कोलनारा, रायगडा ज़िला
मो_ 8917324525

✒️अनुवाद: ज्योति शंकर पण्डा
शरत, मयूरभंज

Sunil Kumar Dhangadamajhi

𝘌𝘥𝘪𝘵𝘰𝘳, 𝘠𝘢𝘥𝘶 𝘕𝘦𝘸𝘴 𝘕𝘢𝘵𝘪𝘰𝘯 ✉yadunewsnation@gmail.com

http://yadunewsnation.in

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!