कविता: कुछ तो कहो तुम

अगर ग़लत राह पर मैं हूं
तो रोक लो मुझको ।

शब्द सभी आंधी में
पोलिथिन की तरह
इधर उधर उड़ रहे
समेट सको तो
समेट लो ।

क्लांत,श्लांत
उद्भ्रांत,दिग्भ्रांत
कारवां ए लफ्ज़ में
दिख न रही है
तस्वीर कोई

अगर मैं गिर रहा हूं
तो कुछ तो कहो मुझको ‌।

मूल ओड़िया: प्रफुल्ल चंद्र पाढ़ी
कोलनरा, रायगडा जिला
मो_8917324525

अनुवाद : ज्योति शंकर पण्डा
शरत, मयूरभंज

Sunil Kumar Dhangadamajhi

𝘌𝘥𝘪𝘵𝘰𝘳, 𝘠𝘢𝘥𝘶 𝘕𝘦𝘸𝘴 𝘕𝘢𝘵𝘪𝘰𝘯 ✉yadunewsnation@gmail.com

http://yadunewsnation.in

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *