सरकार की शिक्षा-रोजगार विरोधी कदम, नियुक्ति के लिए धरनारत अभ्यर्थियों पर पुलिस की लाठीचार्ज

सरकार की शिक्षा-रोजगार विरोधी कदम, नियुक्ति के लिए धरनारत अभ्यर्थियों पर पुलिस की लाठीचार्ज

पटना: स्थानीय गर्दनीबाग में नियुक्ति पत्र देने की मांग को लेकर धरना दे रहे टी.ई.टी.-सी.टी.ई.टी. उत्तीर्ण अभ्यार्थियों पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया और उनके समानों को फेंक दिया। ठंड में पूरी रात आंदोलनकारियों ने धरना स्थल के बगल में गर्दनीबाग स्टेडियम में बिताया। पटना पुलिस-प्रशासन की यह भूमिका घोर निन्दनीय और असंवेदनशील है। धरना का यह कार्यक्रम 18 जनवरी को ही शुरू हुआ था और अभी कुछ दिन और चलने वाला है।

सी.पी.आई.(एम.) के राज्य सचिव अवधेश कुमार, पटना जिला सचिव मनोज चन्द्रवंशी, एस.एफ.आई. के नेता कुमार निशांत और दीपक गर्दनीबाग स्टेडियम जाकर आंदोलनकारियों से भेंट की तथा उनकी मांगों और पुलिस ज्यादती के बारे में पूरी जानकारी ली।

आंदोलनकारियों ने बताया कि वे सभी टी.ई.टी. उत्तीर्ण अभ्यार्थी हैं। उच्च न्यायालय ने भी राज्य सरकार को तुरन्त नियुक्ति पत्र देने का आदेश दिया है, लेकिन सरकार शिक्षकों की बहाली नहीं कर रही है। आंदोलनकारियों का कहना था कि धरना देने का विधिवत आदेश प्राप्त था, वाबजूद अचानक कल देर शाम बड़ी संख्या में पुलिस बल के द्वारा धरनार्थियों को पीटा गया, उनके समान को उठाकर फेंक दिया गया और बने पंडाल को क्षतिग्रस्त कर दिया गया। फिर भी आंदोलनकारी डटे हुए हैं और संघर्ष जारी है।

गर्दनीबाग स्टेडियम में धरनार्थियों को संबोधित करते हुए सीपीआई (एम) के राज्य सचिव ने पुलिस की ज्यादत्ती की घोर निन्दा करते हुए, पार्टी की ओर से उनके आंदोलन के प्रति एकजुटता का इजहार किया। राज्य सचिव ने नीतीश सरकार की तानाशाही कदम की आलोचना करते हुए पूछा कि 19 लाख युवाओं को रोजगार देने की घोषणा का क्या हुआ? यह भी शायद चुनावी जुमला ही था। उन्होंने आंदोलनकारियों को भरोसा दिलाया कि सी.पी.आई.(एम.) विधानसभा के अन्दर और बाहर उत्तीर्ण अभ्यार्थियों को तुरंत नियुक्ति पत्र देने की मांग पर आंदोलन करेगी। उन्होंने नीतीश सरकार से उत्तीर्ण अभ्यिार्थियों को तुरंत नियुक्ति पत्र देने की मांग की।

पटना से रामजी प्रसाद की रिपोर्ट Yadu News Nation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *