पिकअप में बैठकर बाढ़ प्रभावित इलाके पहुंचे मंत्री कवासी लखमा

पिकअप में बैठकर बाढ़ प्रभावित इलाके पहुंचे मंत्री कवासी लखमा

करीब से देखा तबाही का मंजर, हालात का लिया जायजा

बीजापुर: छत्तीसगढ़ के आबकारी मंत्री और कोंटा विधानसभा से विधायक कवासी लखमा सुकमा जिले में बाढ़ प्रभावित इलाकों का जायजा लेने के लिए निकले। हालांकि, वे इंजरम गांव से आगे कोंटा नहीं पहुंच सके। इंजरम में पानी से लबालब हुई नेशनल हाईवे के कुछ हिस्से को तो कवासी लखमा ने पिकअप और कलेक्टर और SP ने ट्रैक्टर से कुछ दूरी तक पार तो कर लिया, लेकिन बढ़ते जलस्तर को देख उन्हें लौटना पड़ा।

उन्होंने इंजरम गांव के लोगों से मुलाकात की। आबकारी मंत्री कवासी लखमा ने अधिकारियों को निर्देश दिए की बाढ़ प्रभावित इलाकों में जल्द से जल्द सुविधाएं पहुंचाएं। जिन गांवों में लोग फंसे हुए हैं उन्हें जल्द से जल्द निकाल कर राहत शिविर कैंप तक लाया जाए। वहीं जिन गांवों का संपर्क ब्लॉक और जिला मुख्यालयों से कट गया है, वहां तक राहत सामग्री राशन, दवाइयां जैसी जरूरत के सामान भेजें। कवासी लखमा ने ग्रामीणों के रेस्क्यू के लिए 1 मोटर बोट और रसद सामानों की व्यवस्था की। जिसे बाढ़ प्रभावित इलाकों में भिजवाया है।

आबकारी मंत्री कवासी लखमा ने कहां की छत्तीसगढ़ के पड़ोसी राज्य तेलंगाना और महाराष्ट्र में लगातार बारिश हो रही है। वहां पर नदियों में बने डेम को खोल दिया गया है। गोदावरी और शबरी नदी उफान पर आ गई है। इसी वजह से जिले के कोंटा, इंजरम और डोंड्रा गांव पूरी तरह बाढ़ से प्रभावित हो गए हैं। लखमा ने कहा कि, जब भाजपा की सरकार थी तब भी आपदा आती थी, लेकिन लोगों के लिए काम नहीं होते थे। आज कांग्रेस की सरकार को बाढ़ ने फंसे लोगों की चिंता है। इसलिए सरकार, प्रशासन सब मिलकर लोगों के लिए काम कर रहे हैं।

आबकारी मंत्री कवासी लखमा सुकमा के बाद चौपर से बीजापुर पहुंचे। राहत शिविर में रखे गए कोंडमोसा, रामपेटा के बाढ़ पीड़ितों से मुलाकात की। ग्रामीणों को हर संभव मदद करने का भरोसा दिलाया। उन्होंने राजस्व अमला को लगातार निगरानी रखने पंच, सरपंच, कोटवार, सचिव, पटवारी एवं मैदानी अमला को सतर्क रहकर पल-पल की जानकारी देने के निर्देश दिए। लखमा ने कहा कि स्थिति सामान्य होने पर क्षतिपूर्ति का आकलन किया जाएगा। फसल नुकसान एवं चल-अचल संपत्ति की क्षतिपूर्ति शासन के नियमानुसार की जाएगी।

बीजापुर में बाढ़ प्रभावित लोगों से जब कवासी लखमा बात कर रहे थे तो उस समय एक महिला मंत्री के सामने हाथ जोड़ खड़ी हो गई। महिला ने मंत्री से कहा कि, बाढ़ के पानी में मेरा सब कुछ बह गया। बढ़ी मुश्किल एक-एक कर घर के लिए सामान लिया था। लेकिन, वह भी बर्बाद हो गया। बारिश के पानी में घर डूब चुका है। महिला ने लखमा से कहा कि, हम बर्बाद हो गए हैं, मदद करिए। महिला की बात सुनकर कवासी लखमा ने मदद का आश्वासन दिया है।

छत्तीसगढ़ स्टेट हेड उमेश यादव की रिपोर्ट यदु न्यूज नेशन

error: Content is protected !!