सीपीईसी की धीमी प्रगति पर पाकिस्तान से खुश नहीं है चीन, शी जिनपिंग ने शहबाज शरीफ से मिलने के लिए खास प्रतिनिधिमंडल भेजा

इस्लामाबाद:चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा की प्रगति को लेकर बीजिंग खुश नहीं है। शी जिनपिंग की यह महत्वकांक्षी परियोजना पाकिस्तान में भ्रष्टाचार, लालफीताशाही और लापरवाही की भेंट चढ़ती जा रही है। रही-सही कसर बलूचिस्तान के विद्रोही गुटों ने पूरी कर दी है। ऐसे में चीन ने सीपीईसी की प्रगति को लेकर पाकिस्तानी प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ को जमकर खरी-खोटी सुनाई है। इसके बाद सफाई देते हुए शहबाज शरीफ ने कहा कि उनकी सरकार चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा से जुड़ी परियोजनाओं को प्राथमिकता के आधार पर पूरा करने पर ध्यान दे रही है। सरकारी रेडियो पाकिस्तान की खबर के अनुसार, चीन सड़क एवं पुल कॉरपोरेशन के उपाध्यक्ष ये छेंगयिन की अध्यक्षता में इस्लामाबाद आए प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात के दौरान प्रधानमंत्री शरीफ ने उक्त टिप्पणी की।

पाकिस्तानी पीएम को दी गई सीपीईसी के काम की जानकारी
बैठक के दौरान प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ को पूरी हो चुकी और चल रही परियोजनाओं के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई। उन्हें बताया गया कि काराकोरम राजमार्ग के हवेलियां-थाकोट वाले हिस्से का निर्माण कार्य पूरा हो चुका है जबकि दूसरे चरण में थाकोट से रायकोट तक वाले हिस्से का निर्माण चल रहा है। बैठक में अन्य परियोजनाओं की प्रगति रिपोर्ट भी साझा की गई जिसमें… कराची तटवर्ती विकास, राशकाई विशेष आर्थिक जोन, कराची-हैदराबाद मोटरवे (एम-9), बाबुसार सुरंग और कराची बंदरगाह ट्रस्ट से पिपरी तक रेलवे कॉरिडोर का निर्माण शामिल है।

शहबाज ने पाकिस्तानी अधिकारियों को दिया यह आदेश
प्रधानमंत्री शरीफ ने संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिया कि सीपीईसी से जुड़ी परियोजनाओं को तय समयसीमा में पूरा किया जाए। उन्होंने कहा कि सरकार विकास परियोजनाओं में पारदर्शिता सुनिश्चित कर रही है और जनता से जुड़ी महत्वपूर्ण परियोजनाओं को तत्काल पूरा किया जाएगा।

क्या है सीपीईसी
चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (सीपीईसी) चीन के ‘बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव’ (बीआरआई) योजना के तहत आने वाला महत्वाकांक्षी परियोजना है। अरबों डॉलर की लागत वाली इस परियोजना का उद्घाटन 2013 में चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने सत्ता में आने पर किया था। बीआरआई का लक्ष्य दक्षिण-पूर्व एशिया, मध्य एशिया, खाड़ी क्षेत्र, अफ्रीका और यूरोप को सड़क तथा समुद्री मार्ग से जोड़ना है।

पाकिस्तान के कदमों से खुश नहीं चीन
सीपीईसी से जुड़ी परियोजनाओं को समय पर पूरा करने के लिए उठाए गए कदमों से चीनी प्रतिनिधिमंडल संतुष्ट नहीं है। इसके अलावा चीन के सड़क एवं पुल कॉरपोरेशन ने पाकिस्तान में 10,000 मेगावाट क्षमता वाले सौर संयंत्र में निवेश में रूचि दिखायी है। प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने कहा कि पाकिस्तान और चीन बहुत पुराने मित्र हैं और दोनों का संबंध दशकों पुराना है। उन्होंनेने कहा कि कठिन घड़ी में चीन हमेशा पाकिस्तान के साथ खड़ा रहा है। उन्होंने कहा कि पूरा पाकिस्तान बाढ़ के दौरान सहायता के लिए चीनी नेतृत्व का कृतज्ञ है।

Sunil Kumar Dhangadamajhi

𝘌𝘥𝘪𝘵𝘰𝘳, 𝘠𝘢𝘥𝘶 𝘕𝘦𝘸𝘴 𝘕𝘢𝘵𝘪𝘰𝘯 ✉yadunewsnation@gmail.com

http://yadunewsnation.in
error: Content is protected !!