Kim Jong Un May Conduct Nuclear Test During Chinese Communist Party Congress For Xi Jinping

बीजिंग/प्‍योंगयांग: अमेरिका, दक्षिण कोरिया और जापान का उत्‍तर कोरिया के साथ तनाव अपने चरम पर है। तानाशाह किम जोंग उन के आदेश पर उत्‍तर कोरियाई सेना लगातार अपनी किलर मिसाइलों का परीक्षण कर रही है। उत्‍तर कोरिया को करारा जवाब देने के लिए अमेरिका ने अपने परमाणु हथियारों से लैस एयरक्राफ्ट कैरियर को दक्षिण कोरिया भेजा है। इस बीच ऐसी आशंका जताई जा रही है कि उत्‍तर कोरिया चीन के राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग के तीसरी बार ताजपोशी के समय परमाणु बम का एक बार फिर से विस्‍फोट कर सकता है। उत्‍तर कोरिया ने अंतिम बार 3 सितंबर 2017 को परमाणु बम का परीक्षण किया था। उस समय उत्‍तर कोरिया के सबसे करीबी दोस्‍त चीन के राष्‍ट्रपति शी ब्राजील, रूस, भारत और दक्षिण अफ्रीका के राष्‍ट्राध्‍यक्षों के स्‍वागत की तैयारी कर रहे थे। इसके जरिए शी जिनपिंग अपनी छवि को मजबूत करना चाहते थे ताकि इसके कुछ दिन बाद होने वाले कम्‍युनिस्‍ट पार्टी कांग्रेस से ठीक पहले अपनी छवि को चमकाई जा सके। इस पार्टी कांग्रेस में शी जिनपिंग को दूसरी बार चीन की बागडोर सौंपी गई थी। अब 5 साल बाद एक बार फिर से चीन में शी जिनपिंग के तीसरी बार ताजपोशी का समय आ गया है और उत्‍तर कोरिया को लेकर अटकलें तेज होती जा रही हैं।

उत्‍तर कोरिया के पिछले परमाणु बम के विस्‍फोट से चीन सीमा के पास जोरदार भूकंप आ गया था जिसकी तीव्रता 6.3 आंकी गई थी। यह उसका छठवां परमाणु बम का परीक्षण था। अब 5 साल के बाद उत्‍तर कोरिया पश्चिमी देशों के तमाम प्रतिबंधों के बाद भी अपनी सैन्‍य महत्‍वाकांक्षा को बढ़ा रहा है। उत्‍तर कोरिया ने परमाणु हथियारों और मिसाइलों के निर्माण को बढ़ा दिया है। तानाशाह किम जोंग उन खुद ही हाइपरसोनिक और अमेरिका तक मार करने वाली अंतरमहाद्वीपीय मिसाइलों के परीक्षण की निगरानी कर रहा है। उत्‍तर कोरिया ने कानून में बदलाव करके कहा है कि अगर उसके रणनीतिक ठिकानों और देश के नेतृत्‍व पर कोई खतरा आता है तो वह परमाणु हथियारों से हमला कर देगा।उत्‍तर कोरिया पर नजर रखने वाले विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि किम जोंग उन शी जिनपिंग की तीसरी बार ताजपोशी के समय सातवां परमाणु परीक्षण कर सकते हैं। अभी पिछले सप्‍ताह ही दक्षिण कोरिया की खुफिया एजेंसी ने कहा था कि उत्‍तर कोरिया 16 अक्‍टूबर से 7 नवंबर के बीच परमाणु बम का परीक्षण कर सकता है। 16 अक्‍टूबर को ही चीन की कम्‍युनिस्‍ट पार्टी के 2300 सदस्‍य बीजिंग के ग्रेट हाल में जमा होंगे। इसी दौरान अमेरिका में मध्‍यावधि के चुनाव होने हैं।

वहीं कुछ विश्‍लेषकों का कहना है कि किम जोंग उन अगर शी जिनपिंग की ताजपोशी के समय परीक्षण करते हैं तो यह चीन की गाल पर एक जोरदार तमाचा मारने जैसा होगा। बीजिंग में रहने वाले विश्‍लेषक इनार तांगेन ने कहा कि चीन ने हाल ही में 5 महीने बाद उत्‍तर कोरिया के साथ मालगाड़ी की आवाजाही को मंजूरी दी है। उन्‍होंने कहा कि उत्‍तर कोरिया का परमाणु परीक्षण अमेरिका में मध्‍यावधि चुनाव के आसपास हो सकता है। किम जोंग लगातार मांग कर रहे हैं कि अमेरिका उनके देश पर लगे प्रतिबंध को हटाए।

Sunil Kumar Dhangadamajhi

𝘌𝘥𝘪𝘵𝘰𝘳, 𝘠𝘢𝘥𝘶 𝘕𝘦𝘸𝘴 𝘕𝘢𝘵𝘪𝘰𝘯 ✉yadunewsnation@gmail.com

http://yadunewsnation.in
error: Content is protected !!