बुढ़ापे में भी स्वस्थ व जवां रहने के 6 तरीके

क्या उम्र बढ़ना ही पुरानी बीमारियों का एकमात्र कारण है? दुर्भाग्य से यह लंबे समय से चली आ रही धारणा रही है और डॉक्टरों सहित कई लोगों की धारणा को बदलना मुश्किल है. पुरानी बीमारी उम्र बढ़ने का परिणाम नहीं है. जबकि बुढ़ापा कई व्यक्तियों में बढ़ती बीमारी के बोझ से जुड़ा हो सकता है, हमें 80 साल के कई लोग भी मिलते हैं जो फिट हैं और उच्च-स्तरीय कार्य करने में सक्षम हैं. तो क्या उम्र बढ़ने के साथ हमारे स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए कोई विशिष्ट फार्मूला या मंत्र है?

समय के साथ बीमारी से प्रभावित होने की संभावना

हाल के शोध से पता चलता है कि खराब जीवनशैली वाले लोग समय के साथ बीमारी से प्रभावित होने की संभावना रखते हैं. यहां कुछ सरल कदम दिए गए हैं, जिन्हें अपनाकर व्यक्ति बुढ़ापे के दौरान एक पूर्ण और स्वस्थ जीवन जी सकता है:

अपने स्वास्थ्य की जिम्मेदारी स्वयं लेना

स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों पर खुद को शिक्षित करने के लिए कदम उठाएं और जितना हो सके स्वास्थ्य पेशेवरों की सलाह का पालन करें. अपने शरीर के चेतावनी संकेतों को टालें या नज़रअंदाज़ नहीं करना चाहिए. किसी ऐसे व्यक्ति को ढूंढें जिससे आप जुड़ सकें और उसके साथ अपने स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों पर चर्चा कर सकें.

पर्याप्त शारीरिक गतिविधि

चलते रहें और थोड़ी देर टहलें. खाली बैठने से आपकी मांसपेशियों में अकड़न बढ़ जाती है और दर्द होने लगता है. नियमित सैर पर जाने वाला व्यक्ति अधिक आत्मविश्वासी होता है और इससे परोक्ष रूप से उनकी सामाजिक गतिविधि में सुधार होता है. ये दोनों कारक मिलकर बुजुर्गों के स्वास्थ्य में योगदान करते हैं.

संतुलित आहार और उचित जलयोजन

जलयोजन को बहुत कम महत्व दिया जाता है. यह हमारे देश में बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि अधिकांश भागों में गर्म और आर्द्र मौसम होता है. एक दिन में औसतन 2 लीटर पानी की आवश्यकता होती है और गर्म दिनों में इससे अधिक पानी की आवश्यकता होती है. फलों और हरी सब्जियों की भरपूर मात्रा के साथ संतुलित आहार, सेहत और समग्र जीवन प्रत्याशा में सुधार करता है.

नींद और तनाव

भावनात्मक समस्याएं शारीरिक स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकती हैं और नींद को भी प्रभावित कर सकती हैं. नींद की कमी से भावनात्मक स्थिति ख़राब हो सकती है. यह आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर करता है और मानसिक कार्य को प्रभावित करता है. इसलिए, अच्छी नींद के पैटर्न को बनाए रखने के लिए रणनीति विकसित करें.

अपने मस्तिष्क को सक्रिय बनाएं

नए कार्य सीखते रहना आपके मस्तिष्क को ऊर्जावान बनाता है और अप्रत्यक्ष रूप से आपके स्वास्थ्य को भी. आपके मस्तिष्क को वर्षों तक लगातार उत्तेजित करने की आवश्यकता होती है, नहीं तो संभावना है कि आप इसकी कार्यात्मक क्षमता खो देंगे. बदले में यह खराब स्मृति और एकाग्रता में योगदान कर सकता है.

आशावाद

स्वस्थ रहने के लिए मौज-मस्ती और हंसी-मजाक करना महत्वपूर्ण है. उम्र बढ़ने के साथ-साथ सामाजिक दायरे से अलग-थलग न रहें. यहां, परिवारों का योगदान महत्वपूर्ण है और उन्हें सक्रिय रूप से बुजुर्गों को सामाजिक गतिविधियों को जारी रखने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए.

समाज के एक हिस्से के रूप में, हम बुजुर्गों के सामने आने वाली बाधाओं को रोकने के लिए अपनी मानसिकता और जीवनशैली में कुछ बदलाव लाने में योगदान दे सकते हैं, जिसमें उनकी यात्रा और काम के लिए विशेष अवसर बनाना भी शामिल है. आख़िरकार, स्वास्थ्य में सुधार करने और सक्रिय जीवन का आनंद लेने में कभी देर नहीं होती.

Sunil Kumar Dhangadamajhi

𝘌𝘥𝘪𝘵𝘰𝘳, 𝘠𝘢𝘥𝘶 𝘕𝘦𝘸𝘴 𝘕𝘢𝘵𝘪𝘰𝘯 ✉yadunewsnation@gmail.com

http://yadunewsnation.in
error: Content is protected !!