उत्तर कोरिया किस पर हमला करने की कर रहा है तैयारी ? किम जोंग उन के इस कदम से बढ़ा टेंशन

उत्तर कोरिया एक ऐसा देश है जिसके बारे में जानकारी बहुत ही कम बाहर आती है. यहां के तानाशाह ने बहुत से प्रतिबंध लगा रखे हैं. इस बीच खबर आ रही है कि उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन ने तोपखानों और परमाणु संपन्न बैलिस्टिक मिसाइलों के लिए प्रक्षेपण यान बनाने वाली फैक्टरियों समेत देश के अहम हथियार उत्पादन केंद्रों का दौरा किया है. इस खबर के सामने आने के बाद कई तरह के कयास लगाये जाने लगे हैं. तानाशाह ने अपनी सेना को आधुनिक हथियारों से लैस करने के प्रयास तथा युद्ध से जुड़ी तैयारियां तेज करने का संकल्प लिया.

आपको बता दें कि उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन का यह तीन दिवसीय दौरा ऐसे वक्त में हुआ है, जब उत्तर कोरिया के बढ़ते खतरे से निपटने के लिए अमेरिका और दक्षिण कोरिया इस महीने संयुक्त सैन्य अभ्यास के अगले चरण की शुरुआत के लिए तैयार हैं. उत्तर कोरिया के मिसाइल परीक्षण और अमेरिका-दक्षिण कोरिया के संयुक्त सैन्य अभ्यासों के कारण कोरियाई प्रायद्वीप में टेंशन देखा जा रहा है. किम इन सैन्य अभ्यासों को आक्रमण का अभ्यास बताते नजर आते हैं.

उत्तर कोरिया मॉस्को को हथियार और गोला-बारुद की आपूर्ति करेगा ?

कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन का हथियार फैक्टरियों का दौरा रूस के साथ संभावित सैन्य सहयोग से जुड़ा हो सकता है. रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने अन्य देशों से यूक्रेन के खिलाफ युद्ध में सहयोग देने की अपील की है, जिसके तहत उत्तर कोरिया मॉस्को को हथियार और गोला-बारुद की आपूर्ति करने की सोच रहा होगा.

तोप बनाने वाली एक अज्ञात फैक्टरी का निरीक्षण

उत्तर कोरिया की आधिकारिक ‘कोरियन सेंट्रल न्यूज एजेंसी’ के अनुसार, किम जोंग उन ने बड़े कैलिबर की तोपें बनाने वाली एक अज्ञात फैक्टरी का निरीक्षण करने के दौरान ‘‘उत्तर कोरिया की युद्ध संबंधी तैयारियों में फैक्टरी की महत्वपूर्ण जिम्मेदारियों और कार्यों’’ पर जोर दिया. केसीएनए के मुताबिक, किम ने गोलों की गुणवत्ता में सुधार लाने, प्रणोदक ट्यूब के निर्माण की अवधि घटाने और विनिर्माण की गति बढ़ाने के लिए ‘‘वैज्ञानिक और तकनीकी कदम’’ उठाने के फैक्टरी के प्रयासों की सराहना की, लेकिन नये प्रकार के गोले बनाने की आवश्यकता पर भी जोर दिया.

सेना के लिए वाहनों की आपूर्ति बढ़ाना शीर्ष प्राथमिकता

एक अन्य फैक्टरी में किम ने कहा कि सेना के लिए वाहनों की आपूर्ति बढ़ाना शीर्ष प्राथमिकता है और उन्होंने उत्पादन के लिए एक ‘‘ठोस नींव’’ तैयार करने के वास्ते कर्मियों की तारीफ की. किम ने हथियारों की एक छोटी फैक्टरी का भी दौरा किया और सैनिकों द्वारा इस्तेमाल किए जा रहे हथियारों को उन्नत बनाने की आवश्यकता पर बल दिया. अमेरिका और दक्षिण कोरिया से बढ़ते टकराव के मद्देनजर किम रूस तथा चीन से अपनी साझेदारी मजबूत करने पर कोशिश कर रहे हैं. इसके साथ ही वह अपने आपको कूटनीतिक रूप से अलग-थलग किये जाने की कोशिशों को चुनौती दे रहे हैं और अमेरिका के खिलाफ एक संयुक्त मोर्चे में शामिल होने का प्रयास कर रहे हैं.

किम जोंग उन ने सैन्य परेड में रूस, चीन के प्रतिनिधिमंडल के साथ मंच साझा किया

आपको बता दें कि पिछले महीने उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन ने देश की राजधानी प्योंगयांग में सैन्य परेड के दौरान रूस और चीन के वरिष्ठ अधिकारियों के प्रतिनिधिमंडल के साथ मंच साझा किया और परमाणु क्षमता से लैस मिसाइलों एवं शक्तिशाली हथियारों का प्रदर्शन किया था. इस दौरान किम ने शहर के मुख्य चौक पर स्थित इमारत की बालकनी से रूस के रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगु और चीन की सत्तारूढ़ पार्टी के अधिकारी ली होंगझोंग के साथ परेड देखी थी. मीडिया के अनुसार, सड़कों पर हजारों लोग जमा थे, जो मुख्य सड़क पर सैनिकों, टैंकों और विशाल अंतरद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइलों को ले जाने वाले वाहनों को देखकर नारे लगा रहे थे.

भाषा इनपुट के साथ

Sunil Kumar Dhangadamajhi

𝘌𝘥𝘪𝘵𝘰𝘳, 𝘠𝘢𝘥𝘶 𝘕𝘦𝘸𝘴 𝘕𝘢𝘵𝘪𝘰𝘯 ✉yadunewsnation@gmail.com

http://yadunewsnation.in
error: Content is protected !!