Sleep Disorders : नींद की समस्या से क्या जूझ रहा बच्चा, जानिए संकेत, लक्षण और उपाय

Sleep Disorders : बच्चे हो बड़े, सभी की सेहत के लिए अच्छी नींद बहुत जरूरी है. अच्छे स्वास्थ्य के लिए गुणवत्तापूर्ण नींद महत्वपूर्ण है लेकिन आज की लाइफस्टाइल में लोगों के पास वक्त नहीं बचता लिहाजा उन्हें पूरा आराम नहीं मिलता. ये समस्या बड़े ही नहीं बच्चों पर भी अधिक असर करती है. जिसे स्लीप डिऑर्डर कहते हैं. माता-पिता के लिए यह जानना कठिन हो सकता है कि जो बच्चा नींद से जूझ रहा है वह नींद संबंधी विकार है सामान्य व्यवहार. नींद संबंधी विकार के साथ रहने से परेशानी होती है और कार्य करने की क्षमता कम हो जाती है.

Sleep Disorders

कई बच्चों को नींद संबंधी विकार प्रभावित करते हैं. सामान्य प्रकार के नींद संबंधी विकारों की बात करें तो इसमें ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया,नींद में चलना,भ्रमित करने वाली उत्तेजनाएं, नींद से डर ,बुरे सपने,बचपन की व्यवहारिक अनिद्रा,विलंबित नींद चरण विकार, बेचैन पैर सिंड्रोम शामिल है. एक बच्चे की नींद संबंधी विकार पूरे परिवार को प्रभावित कर सकता है लेकिन बच्चों की नींद को बेहतर बनाने में मदद करने के कई तरीके हैं यदि आपके बच्चे को नींद संबंधी विकार है, तो डॉक्टर से सहायता प्राप्त कर सकते हैं

बच्चों में नींद संबंधी विकारों के लक्षण

Sleep Disorders
  • कभी-कभी बच्चों को सोने से पहले शांत होने में थोड़ा समय लग सकता है, लेकिन अगर आपके बच्चे को ऐसा लगता है कि उन्हें बहुत परेशानी हो रही है, तो यह नींद संबंधी विकार हो सकता है.

  • आपका बच्चा बिस्तर पर लेटा हुआ है और घंटों तक दूसरी किताब, गाना, पेय या बाथरूम जाने की बात बोल रहा हो.

  • आपका बच्चा एक समय में केवल लगभग 90 मिनट ही सोता है तो यह नींद विकार हो सकता है.

  • आपका बच्चा रात में पैरों में खुजली की शिकायत करता है.

  • बच्चा जोर-जोर से खर्राटे लेता हो.

  • कई बच्चों को कभी-कभी रात में बेचैनी या अच्छी नींद नहीं आती अगर ये व्यवहार कई रातों तक चलता है तो यह स्लीप डिसऑर्डर हो सकता है.

  • जिन बच्चों को पर्याप्त नींद की कमी होती है वे अधिक मूडी और चिड़चिड़े लगते हैं.

  • स्कूल में अपने सामान्य स्तर पर प्रदर्शन करने में विफल रहते हैं.

Sleep Disorders

नींद पूरी नहीं होने पर बच्चे के स्वास्थ्य पर पड़ता है असर

जब बच्चों को पर्याप्त नींद नहीं मिलती है, तो यह उनके स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है. लंबे समय तक समस्या बनी रहने से बच्चों में कई शारीरिक, भावनात्मक और मानसिक परिवर्तन हो सकते हैं,

  • दिन में सोया हुआ फील करना

  • मूड में बदलाव

  • भावना को नियंत्रित करने में परेशानी

  • कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली

  • कमजोर स्मृति

  • ख़राब समस्या-समाधान कौशल

  • ख़राब समग्र स्वास्थ्य

  • छोटे बच्चों में चिड़चिड़ापन अक्सर नींद की कमी का संकेत होता है. किशोरों में नींद की कमी अवसादग्रस्त भावनाओं और नकारात्मक विचारों को छिपाने की वजह बन सकती है.

Sleep Disorders

कैसे सोते हैं बच्चे

अधिकांश शिशु 3 महीने से कम उम्र में प्रतिदिन कुल 16 से 17 घंटे सोते हैं और 3 से 12 महीने की उम्र के बीच पूरी रात सोना शुरू कर देते हैं.

0-3 महीने

आपके नन्हे-मुन्नों की वृद्धि और विकास के लिए नींद बहुत जरूरी है. नवजात शिशु खाने के लिए उठते हैं, आपका चेहरा या अपने आस-पास की गतिविधि देखकर फिर सो जाते हैं.

3-12 महीने

6 महीने तक, कई बच्चे रात भर सोते रहेंगे, और दिन के दौरान अधिक समय तक जागना पसंद करेंगे जैसे-जैसे बच्चे एक साल होने के करीब आते हैं वे दिन में एक या दो झपकी के साथ रात में अधिक लगातार सोने की संभावना रखते हैं.

एक साल के बाद

छोटे बच्चों के रूप में, बच्चे अक्सर दो छोटी झपकी के बजाय हर दिन एक लंबी झपकी लेते हैं

नींद में खलल

विकास के लगभग हर चरण में, बच्चे के बदलते शरीर और दिमाग के कारण उसे सोने या सोने में परेशानी हो सकती है. शिशु अलग होने की चिंता का अनुभव कर सकता है और आधी रात में मां के पास आना चाहता है. हो सकता है बच्चे शब्द सीख रहे हों और पालने में मौजूद हर चीज़ का नाम बोलने के लिए दौड़ते हुए दिमाग से उठें. यहां तक ​​कि अपने हाथ और पैर फैलाने की इच्छा भी उन्हें रात में जगाए रख सकती है. कैफीन युक्त भोजन और पेय आपके बच्चे के लिए सोने या सोते रहने में कठिनाई पैदा कर सकते हैं. नई जगह पर जाने से भी बच्चों को सोने में कठिनाई का अनुभव होता है. कभी – कभी बीमारी,एलर्जी भी नींद विकार का कारण बन सकता है.

स्लीप एप्निया

स्लीप एपनिया में आपका बच्चा अक्सर सोते समय 10 सेकंड या उससे अधिक समय के लिए सांस लेना बंद कर देता है. ज्यादातर मामलों में, आपके बच्चे को पता ही नहीं चलेगा कि ऐसा हो रहा है.

आप यह भी देख सकते हैं कि आपका बच्चा जोर-जोर से खर्राटे लेता है, मुंह खुला रखकर सोता है और दिन में अत्यधिक नींद लेता है. यदि आप अपने बच्चे के साथ ऐसा होते हुए देखते हैं, तो जल्द से जल्द डॉक्टर से मिलें.

बेचैन पैर सिंड्रोम

रेस्टलेस लेग्स सिंड्रोम को एक वयस्क समस्या मानी जाती है , लेकिन शोध से संकेत मिलता है कि यह कभी-कभी बचपन में शुरू होती है. आपका बच्चा हिलने -डुलने पर पैर पर किसी कीड़े के रेंगने के अहसास की शिकायत कर सकता है, और कुछ राहत पाने के लिए वह बिस्तर पर बार-बार अपनी स्थिति बदल सकता है

रात का डर सिर्फ भी नींद विकार का कारण हो सकता है इसमें बच्चा अचानक डरकर जाग उठता है. अक्सर रोता है, चिल्लाता है, और कभी-कभी नींद में चलने लगता है.

Sleep Disorders

डॉक्टर को कब दिखाना है

कभी-कभी यह जानना कठिन हो सकता है कि बच्चा कब बेचैन है या नींद संबंधी विकार से परेशान है. खराब नींद के बाद सुबह अपने बच्चे से बात करें. यदि आपका बच्चा कोई बुरा सपना याद कर सकता है, तो उससे बात करें और उसे बताएं कि वह सपना था सच्चाई नहीं.

यदि आपका बच्चा नींद में चलना या रात में डर का अनुभव करना याद नहीं रख पाता है, तो यह एक ऐसी स्थिति का संकेत हो सकता है जिसके लिए चिकित्सकीय ध्यान देने की जरूरत है.

विशेष रूप से, आपका डॉक्टर या बाल चिकित्सा नींद विशेषज्ञ यह कर सकता है. नींद को बेहतर बनाने के लिए एक योजना बनाने में मदद करें जिसे आप घर पर लागू कर सकें बच्चे को भरपेट भोजन कराके सुलाने की कोशिश करें. उस वक्त आप भी इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों से दूर रहें और कमरे में नींद के अनुकूल वातावरण रखें

Sleep Disorders

एक माता-पिता के रूप में बच्चे की कैसे मदद करें ?

सोते समय एक आरामदायक दिनचर्या विकसित करने पर विचार करें. अपने बच्चे के साथ मिलकर एक ऐसी प्रणाली खोजें जो उनके लिए काम करे. बच्चों को कुछ विकल्प देने से, जैसे सोने से पहले कितनी किताबें पढ़ने देने से उन्हे नींद आती है. आपकी घरेलू तकनीकें काम नहीं करती हैं, तो डॉक्टर से बात करें.

Sunil Kumar Dhangadamajhi

𝘌𝘥𝘪𝘵𝘰𝘳, 𝘠𝘢𝘥𝘶 𝘕𝘦𝘸𝘴 𝘕𝘢𝘵𝘪𝘰𝘯 ✉yadunewsnation@gmail.com

http://yadunewsnation.in
error: Content is protected !!