यूक्रेन कभी सरेंडर नहीं करेगा… अमेरिका से जेलेंस्की का बड़ा ऐलान, पहले विदेशी दौरे में मांगे और हथियार

वॉशिंगटन : करीब 10 महीने पहले फरवरी में रूस-यूक्रेन युद्ध की शुरुआत के बाद से यूक्रेनी राष्ट्रपति वोलोडिमिर जेलेंस्की अपने पहले विदेशी दौरे पर हैं। बुधवार को जेलेंस्की अमेरिका पहुंचे। वाइट हाउस में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के साथ मुलाकात के बाद उन्होंने कांग्रेस के सदस्यों को संबोधित किया। बाइडन ने जेलेंस्की के साथ एक न्यूज कान्फ्रेंस में यूक्रेन को लगातार समर्थन का आश्वासन दिया। उन्होंने घोषणा करते हुए कहा कि अमेरिका अतिरिक्त 1.8 बिलियन डॉलर के सहायता पैकेज के हिस्से के रूप में कीव को पैट्रियट मिसाइल डिफेंस सिस्टम भेजेगा। जेलेंस्की ने अमेरिका को उनके समर्थन के लिए धन्यवाद दिया और कहा कि यूक्रेन इस जंग में सरेंडर नहीं करेगा।

बीबीसी की खबर के अनुसार बाइडन ने जेलेंस्की से कहा कि रूस के साथ युद्ध ‘चाहें जितना लंबा चले’, अमेरिका यूक्रेन के साथ खड़ा रहेगा। उन्होंने कहा कि वह कभी अकेले नहीं पड़ेंगे। 10 महीनों की जंग में अमेरिका यूक्रेन का सबसे बड़ा मददगार साबित हुआ है। रूस की नाराजगी और राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की धमकियों के बावजूद अमेरिका लगातार यूक्रेन को हथियार मुहैया करा रहा है। करीब 2 बिलियन डॉलर के पैकेज की घोषणा के अलावा बाइडन ने और 45 बिलियन डॉलर की मदद का वादा किया है।

यूक्रेन युद्ध का असर पूरी दुनिया पर पड़ रहा है। ऐसी चिंताएं भी हैं कि यूक्रेन के कुछ सहयोगी युद्ध में पानी की तरह बहाए जा रहे पैसों, वैश्विक खाद्य और ऊर्जा आपूर्ति पर पड़ रहे प्रभाव को लेकर शंका में हैं। लेकिन बाइडन ने इस तरह की चिंताओं को खारिज करते हुए कहा कि यूक्रेन के लिए समर्थन की एकजुटता को देखकर उन्हें ‘बहुत अच्छा’ महसूस हो रहा है। उन्होंने पत्रकारों से कहा कि वह वैश्विक गठबंधन को एकजुट रखने को लेकर ‘बिल्कुल चिंतित’ नहीं हैं।

अपने पहले विदेशी दौरे पर भी जेलेंस्की उसी पोशाक में नजर आए जो इस युद्ध में उनका ट्रेडमार्क बन गई है। उन्होंने उम्मीद जताई कि कांग्रेस यूक्रेन के लिए 45 बिलियन डॉलर के पैकेज को मंजूरी दे देगी। हालांकि जनवरी में हाउस ऑफ रिपब्लिकन्स ने चेतावनी दी है कि वे यूक्रेन को ‘ब्लैंक चेक’ नहीं देंगे। अमेरिकी वायु सेना के विमान में वॉशिंगटन पहुंचे यूक्रेन राष्ट्रपति भी अगले महीने अमेरिकी संसद में होने वाले बदलाव से वाकिफ हैं। उन्होंने कहा कि ‘कांग्रेस में होने वाले बदलाव के बावजूद’ उनका विश्वास है कि यूक्रेन के लिए समर्थन द्विदलीय होगा।

वाइट हाउस में बैठक के बाद जेलेंस्की ने अमेरिकी कांग्रेस के संयुक्त सत्र को संबोधित किया। अमेरिकी सांसदों ने उनका खड़े होकर स्वागत किया। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि उनका देश अभी भी ‘सभी बाधाओं के खिलाफ’ खड़ा है और अगले साल संघर्ष में ‘एक टर्निंग पॉइंट’ की भविष्यवाणी की। जेलेंस्की ने ऐलान किया कि यूक्रेन कभी भी सरेंडर नहीं करेगा और उसे और हथियारों की जरूरत है। वह बोले, ‘हमारे पास तोपे हैं, उसके लिए शुक्रिया। लेकिन क्या यह पर्याप्त है? ईमानदारी से कहूं तो नहीं। रूसी सेना को पूरी तरह पीछे हटाने के लिए हमें और तोपों और गोलों की जरूरत है।’

Sunil Kumar Dhangadamajhi

𝘌𝘥𝘪𝘵𝘰𝘳, 𝘠𝘢𝘥𝘶 𝘕𝘦𝘸𝘴 𝘕𝘢𝘵𝘪𝘰𝘯 ✉yadunewsnation@gmail.com

http://yadunewsnation.in
error: Content is protected !!