इजरायल में मिला दैत्याकार हाथी का 5 लाख साल पुराना दांत अफ्रीकी हाथियों से दोगुना था आकार पुरातत्वविद मान रहे प्राचीन खजाना

तेल अवीव: पुरातत्विदों ने इजरायल में एक प्राचीन काल का हाथी दांत खोजा है। माना जा रहा है कि इस हाथी का पूर्व-ऐतिहासिक मनुष्यों ने शिकार किया था। ये हाथी दक्षिणी इजरायल के रीटन में मिला है और लगभग पांच लाख साल पुराना है। हाथी दांत की लंबाई ने वैज्ञानिकों को हैरान कर दिया है। ये दांत आठ फीट लंबा है। प्राचीन हाथियों पर पढ़ाई कर रहे जीवविज्ञानी ईटन मोर ने इसे खोजा था। लेकिन जब पुरातत्विदों ने इस हाथी दांत को धरती से खोद कर निकाला तो उनके पास कोई शब्द नहीं था।

ऐसा माना जा रहा है कि जिस हाथी का यह दांत है वह दैत्याकार रहा होगा। आज के अफ्रीकी हाथियों से उसका आकार दोगुना रहा होगा। अफ्रीकी हाथी पृथ्वी पर सबसे बड़े भूमि स्तनधारी हैं। ये हाथी दांत एकदम सीधा है। वैज्ञानिक मानते हैं कि 4 लाख साल पहले खत्म होने से पहले हाथी यूरोप और मध्य पूर्व में अन्य स्तनधारियों के साथ घूमते थे। दांत खोजने वाले ईटन कहते हैं, ‘मैंने इसे जमीन से थोड़ा बाहर निकले हुए देखा था, ये किसी बड़े जानवर की हड्डी जैसा लग रहा था।’

जानवरों की हड्डी और पत्थर के हथियार मिले
ईटन मोर ने आगे कहा, ‘जब मैंने इसे करीब से देखा तो मुझे अहसास हुआ कि यह कुछ अलग है, जिसके बाद मैंने इसके बारे में तुरंत रिपोर्ट किया।’ इज़राइल एंटिक्विटीज़ अथॉरिटी (IAA) की ओर से कहा गया, ‘वैज्ञानिक शुरुआत में इस खोज को लेकर अपनी आंखों पर विश्वास ही नहीं कर सके।’ IAA ने इस बात की पुष्टि की है कि ये देश और आसपास के रीजन में पाया गया अब तक का सबसे बड़ा पूर्ण हाथी दांत है। इस साइट से चकमक पत्थर के औजारों के साथ-साथ हाथी समेत अन्य जानवरों की हड्डी मिली है।

अब तक का सबसे पूर्ण जीवाश्म
IAA की ओर से आगे कहा गया कि 5 लाख साल पुराने इस हाथी दांत का एक बेहतर स्थिति में मिलना एक बड़ी खोज है। यह इजरायल के करीब किसी प्रागैतिहासिक स्थल पर पाया गया अब तक का सबसे बड़ा पूर्ण जीवाश्म है। दांत बेहद नाजुक है। इसकी खुदाई धीरे-धीरे चल रही है। हवा और धूप के संपर्क में आने से दांत के टूटने की संभावना है। पुरातत्वविद मान कर चल रहे हैं कि इस हाथी दांत का प्राचीन इंसानों से कोई लिंक हो सकता है। क्योंकि ये हाथी दांत बाकी कलाकृतियों से अलग है।

archeology elephant tusk

8 लाख साल पहले थे हाथी
तेल अवीव विश्वविद्यालय में डैन डेविड सेंटर के प्रोफेसर इज़राइल हर्शकोविट्ज़ और IAA ने एक संयुक्त बयान में कहा, ‘साइट पर मिले हथियारों से पता चलता है कि पर्याप्त संख्या में लोग थे और हाथियों का शिकार किया गया। हमारे रीजन का मौसम सूखा है इसलिए लंबे समय तक मांस ताजा नहीं रह सकता। संभव है कि कई लोगों ने इस हाथी को एक साथ खाया हो।’ जिस हाथी की बात हो रही है वह 4 लाख से 8 लाख साल पहले अस्तित्व में थे।

Sunil Kumar Dhangadamajhi

𝘌𝘥𝘪𝘵𝘰𝘳, 𝘠𝘢𝘥𝘶 𝘕𝘦𝘸𝘴 𝘕𝘢𝘵𝘪𝘰𝘯 ✉yadunewsnation@gmail.com

http://yadunewsnation.in
error: Content is protected !!